आंखों में दिखने वाले 'वायरल कंजंक्टिवाइटिस' से घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि इसे आगे फैलने से रोकने के लिए उचित इलाज-सावधानी जरूरी है।

आंखों में दिखने वाले 'वायरल कंजंक्टिवाइटिस' से घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि इसे आगे फैलने से रोकने के लिए उचित इलाज-सावधानी जरूरी है।

आँखों में वायरल नेत्रश्लेष्मलाशोथ देखा गया
अहमदाबाद सिविल में कल 90 मामले दर्ज किये गये
आंखों में दर्द होने पर नजदीकी नेत्र रोग विशेषज्ञ से उपचार लें।





सूरत के बाद अहमदाबाद में भी आंखों से जुड़े 'वायरल कंजंक्टिवाइटिस' के मामले सामने आए हैं। आंखों में दिखने वाले इस वायरल कंजंक्टिवाइटिस से घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि समय रहते आंखों का इलाज कराना और इन्हें आगे फैलने से रोकने के लिए सावधानी के साथ साफ रखना बहुत जरूरी है।

राज्य स्वास्थ्य विभाग ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, उप-जिला अस्पतालों, जिला स्तरीय अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में वायरल कंजंक्टिवाइटिस के इलाज के लिए उचित सुविधाएं स्थापित की हैं।

नेत्र सर्जन डॉ. स्वाति रवानी ने क्या कहा?
सोमवार यानी कल अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में आंखों में संक्रमण के 90 मामले सामने आए हैं। 'वायरल कंजंक्टिवाइटिस' को लेकर नेत्र सर्जन डॉ. स्वाति रवानी ने कहा कि अगर इस स्थिति के लक्षणों की बात करें तो आंखों की लालिमा, आंखों से पानी आना और खुजली से बचने के लिए सावधानी बरतना बहुत जरूरी है।

एक-दूसरे से हाथ न मिलाएं, भीड़ में न घूमें, उन्होंने आगे कहा कि डॉक्टर को दिखाकर ही दवा लें. आगे बताते हुए कहते हैं कि ये समस्या पांच से सात दिनों के अंदर अपने आप कम हो जाती है।

वायरल नेत्रश्लेष्मलाशोथ को रोकने के लिए व्यक्तिगत स्वच्छता सबसे महत्वपूर्ण चीज है। जिसमें अपने हाथ और मुंह को साफ रखने के लिए समय-समय पर अपने हाथ और मुंह को साबुन से धोएं। विशेष रूप से भीड़भाड़ वाले स्थानों जैसे होटल, हॉस्टल, सभा, थिएटर, एसटी स्टैंड, रेलवे स्टेशन, मॉल आदि सार्वजनिक स्थानों आदि पर साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देना चाहिए और यदि संभव हो तो ऐसे स्थानों पर आने-जाने से बचें।

अगर आंखों में लालिमा, दर्द या सूजन हो तो इलाज के लिए नजदीकी नेत्र रोग विशेषज्ञ के पास जाएं। बिना डॉक्टर की सलाह के मेडिकल स्टोर से आई ड्रॉप न लें। डॉक्टर द्वारा बताई गई ड्रॉप्स लगाने से पहले और बाद में साबुन से हाथ धोना जरूरी है।

प्रभावित मरीजों को घबराने की जरूरत नहीं है
इसके अलावा, यदि परिवार का कोई भी सदस्य नेत्रश्लेष्मलाशोथ से प्रभावित है, तो उसे अपना रूमाल, नहाने का तौलिया और सभी व्यक्तिगत सामान अलग रखना चाहिए और दूसरों के संपर्क से बचने का प्रयास करना चाहिए।

चूंकि वायरल कंजंक्टिवाइटिस का प्रभाव थोड़े समय के लिए रहता है, इसलिए प्रभावित मरीजों को घबराने की जरूरत नहीं है, बल्कि डॉक्टर के मार्गदर्शन में इलाज जारी रखें और डॉक्टर के निर्देशानुसार समय-समय पर अस्पताल में जांच कराते रहें। प्रभावित रोगी को यदि संभव हो तो आंखों को चश्मे से सुरक्षित रखना चाहिए।

Post a Comment

Previous Post Next Post

Breaking Posts